challange
challange
challange

बाल रोग चिकित्सकों का मानना है कि टीकाकरण में देरी नहीं होनी चाहिए क्योंकि इससे बच्चों में संक्रमण का जोखिम बढ़ सकता है।
बच्चों को संभावित गंभीर रोगों से सुरक्षित रखने के लिए समय पर टीकाकरण अनिवार्य है।

टीकाकरण मत चूकें।

ताकि रोगों पर रोक लगे। बचपन पर नहीं।

18 वर्ष तक की आयु तक अनुशंसित* टीकों की सूची देखने के लिए नीचे दिए गए शीर्षकों पर क्लिक करें

डाउनलोड करें

क्या आप कोविड-19 महामारी के दौरान अपने बच्चे के छूट गए टीकाकरण के बारे में चिंतित हैं?

नीचे अपने प्रश्नों के उत्तर प्राप्त करें

1.मै इस बारे में निश्चित नहीं हूँ कि क्या मेरे बच्चे का एक टीका छूट गया है, मुझे क्या करना चाहिए? और पढ़ें
  • बच्चों का समय पर टीकाकरण गंभीर और संभावित जानलेवा रोगों से बचाने का एक महत्वपूर्ण तरीका है। रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (सीडीसी) अनुशंसा करता है कि बच्चों का अनुशंसित प्रतिरक्षण अनुसूची के अनुसार टीकाकरण किया जाना चाहिए|
  • जब बच्चों का टीकाकरण नहीं किया जाता है या टीकाकरण में देरी होती है, तो वे गंभीर रोगों से असुरक्षित रह जाते हैं जिन्हें टीकाकरण के माध्यम से आसानी से रोका जा सकता है|
  • आज ही अपने बच्चे के टीकाकरण कार्ड की जांच करें, जिसमें आपके बच्चे के लिए अनुशंसित आयु विशिष्ट टीके हैं। छूट गए या तय टीकाकरण के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने बाल रोग चिकित्सक से परामर्श करें|
2.कोविड-19 महामारी के दौरान छूट गए/तय टीकाकरण के लिए उपलब्ध दिशा-निर्देश क्या हैं? और पढ़ें
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा वैश्विक दिशानिर्देश: प्रतिरक्षण एक अनिवार्य स्वास्थ्य सेवा है। प्रतिरक्षण सेवाओं के व्यवधान से, यहां तक कि संक्षिप्त अवधि के लिए, संवेदनशील व्यक्तियों की संख्या में वृद्धि होगी और प्रकोप-संवेदनशील टीके से रोकथाम योग्य रोगों (वीपीडीज़) की संभावना बढ़ेगी|
  • भारतीय बाल चिकित्सा अकादमी (आईएपी) द्वारा भारतीय दिशानिर्देश: संचारी रोगों की रोकथाम (प्रतिरक्षण सहित) और प्रबंधन को “अनिवार्य चिकित्सा सेवा” माना जाता है। “प्रतिरक्षण एक केंद्रीय स्वास्थ्य सेवा है” जिसे संचारी रोगों की रोकथाम के लिए प्राथमिकता दी जानी चाहिए और कोविड-19 महामारी के दौरान निरंतरता के लिए सुरक्षित किया जाना चाहिए, जहां संभव हो। कोविड-19 महामारी के दौरान एक स्वस्थ बच्चे को प्रतिरक्षित करने का कोई प्रलेखित जोखिम नहीं है|
3.इस समय में टीकाकरण के दौरान क्या सावधानियां/देखभाल बरती जानी चाहिए? और पढ़ें
  • एक पूर्व निर्धारित टीकाकरण मुलाकात के साथ ही अपने बाल रोग चिकित्सक पर जाएं|
  • लगातार अंतराल पर अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का उपयोग करें|
  • शिशुओं को छोड़कर सभी देखभालकर्ताओं और बच्चों को एक मास्क पहनना चाहिए|
  • हर समय सामाजिक दूरी बनाए रखें और जितना संभव हो सतही संपर्कों से बचें|
  • किसी भी खिलौने/व्यक्तिगत वस्तुओं को न ले जाएं और दरवाजे के हैंडल को छूने से बचें|
  • डिजिटल भुगतान को प्राथमिकता दी जानी चाहिए|
  • वरिष्ठ नागरिकों (60 वर्ष से अधिक आयु) को टीका लगवाने वाले व्यक्ति के साथ नहीं जाना चाहिए|
  • कर्मचारियों की सलाह के अनुसार टीकाकरण क्लिनिक में प्रवेश करें, बाहर निकलें और आचरण करें|
4.मैं अपने बच्चे को टीकाकरण के लिए बाहर ले जाने के लिए चिंतित हूँ, क्योंकि यह कोविड-19 के जोखिम को बढ़ा सकता है? और पढ़ें
  • अनिवार्य उत्पादों (दूध, दवाओं, आदि) और सेवाओं (बैंकिंग, स्वास्थ्य देखभाल, आदि) प्राप्त करने के लिए बाहर जाने से भी कोविड-19 से संक्रमित होने का जोखिम होता है। लेकिन हम आवश्यक सावधानियां बरतकर जोखिम को कम करने की कोशिश करते हैं |
  • इसी तरह, टीकाकरण एक अनिवार्य चिकित्सा सेवा है और आवश्यक सावधानियां बरतने से आप और आपके बच्चे को संक्रमण के जोखिम को कम किया जा सकता है|
  • इसके विपरीत, जब बच्चों का टीकाकरण नहीं किया जाता है या टीकाकरण में देरी होती है, तो वे संभावित गंभीर रोगों से असुरक्षित रह जाते हैं जिन्हें टीकाकरण के माध्यम से रोका जा सकता है|
  • अपने बाल रोग चिकित्सक द्वारा दी गई सलाह अनुसार अनुशंसित टीकाकरण कार्यक्रम का पालन करना एक बुद्धिमान निर्णय है|
5.मेरे बच्चे के तय टीकाकरण के लिए अनुमत देरी कितनी है? और पढ़ें

आपका बाल रोग चिकित्सक आपके बच्चे की टीकाकरण अनुसूची के लिए मार्गदर्शन करने वाली सबसे अच्छी सहायता है। आज ही अपने बच्चे के टीकाकरण कार्ड की जांच करें और अधिक जानकारी के लिए अपने बाल रोग चिकित्सक से परामर्श करें।

टीकाकरण से 20 से अधिक जानलेवा बीमारियों की रोकथाम की जा सकती है।

टीकाकरण ने हमें कई देशों में अधिकांश टीके से रोकथाम किए जाने वाले रोगों को बहुत निम्न स्तर तक कम करने में सक्षम बनाया है। हालांकि, यदि लोग उनसे संबंधित टीके प्राप्त करना बंद कर देते हैं, तो हम कुछ टीके से रोकथाम करने योग्य रोगों को फिर से प्रकट होते देख सकते हैं।

टीकों से निम्न में मदद मिली है:

  • चेचक को समाप्त करने में
  • पोलियो को लगभग समाप्त करने में
  • दुनिया भर में 2000 और 2018 के बीच खसरे से संबंधित मौतों में 73% की कमी करने में।
  • 2000 -2018 के बीच रूबेला के मामलों में 97% की कमी करने में

टीके समाज की निम्न में भी मदद करते हैं:

  • व्यक्ति- टीकाकरण, टीके से रोकथाम किए जाने योग्य रोगों, जो ऐतिहासिक रूप से बच्चों में मौतों का एक आम कारण थे, से सुरक्षित करने में मदद करके स्वास्थ्य और कुशलता में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।
  • समुदाय- टीकाकरण समुदायों के भीतर टीके से रोकथाम किए जाने योग्य रोगों के प्रसार को कम करने में मदद कर सकते हैं।
  • अर्थव्यवस्थाएं- अध्ययनों दर्शाते हैं कि टीकाकरण के आर्थिक विकास, उत्पादकता और कार्यबल की भागीदारी पर लाभप्रद प्रभाव हो सकते हैं।
*वैश्विक खसरे से होने वाली मौतों में 2000 में अनुमानित 536000 से लेकर 2018 में 142,000 तक 73% तक की कमी आई है।
**सूचित रूबेला मामलों में 2000 में 102 देशों में 670894 मामलों से लेकर 2018 में 151 देशों में 14621 मामलों तक 97% की कमी आई है।


आज ही छूट गए या तय टीकाकरण के लिए अपने बाल रोग चिकित्सक से परामर्श करें!


Share On
शीर्ष पर जाएं

* Adapted from Advisory committee of vaccination & immunization practices, 2018-19 recommendations by Indian Academy of Pediatrics
Disclaimer: Information appearing in this material is for general awareness only and does not constitute medical advice.
The above vaccination list is not comprehensive and you may be advised additional vaccination based on your medical condition.
Please consult your Pediatrician for more information, question or concern you may have regarding your condition.
Issued in public interest by GlaxoSmithKline Pharmaceuticals Limited. Dr. Annie Besant Road, Worli, Mumbai 400 030, India.